Saturday, 10 September 2011

मेरा भारत

देश मेरा मुझको प्यारा और यह सबसे निराला,
रोज होते भ्रष्ट कामों से मुखर इसका है काला.

बहती रहती थी जहां पर दूध-दधि की नाद्य धारा
है असंभव अब यहाँ पर बिन मिलावट दूध मिलना. 
होता था सोने की चिडया जो कभीं यह विश्व में,
अब यहाँ  देखो अजब है स्वर्ण का अद्भुत नज़ारा .

नारी पूजी जाती थी  जहां देवियों के वेश में
भ्रूण हत्या होती अब है इस निराले देश में.
विविध बोली, विविध भाषा, विविध रहना, विविध खाना,
विविधता में एकता की हैं मिसालें देश में.

घपले-घोटाले निकलते है यहाँ हर क्षेत्र में 
सैन्य क्या, संचार क्या है लिप्त इसमें खेल भी.
त्रस्त रहता, जुर्म सहता, था कभी यह गोरों से,
अपने अब हैं जुर्म करते,क्या. कहें हम औरों को.

बेटे सुधरो, जुर्म छोडो  देश अब यह बोलता
हर बुरे कामों का होता अंत दुखकार जान लो.
छोड़ पापों को को अभी तुम, सभ्य जीवन में पधारो ,
आगमन कर लो अभी तुम देश बाहें खोलता.

25 comments:

  1. घपले-घोटाले निकलते है यहाँ हर क्षेत्र में
    सैन्य क्या, संचार क्या है लिप्त इसमें खेल भी.
    त्रस्त रहता, जुर्म सहता, था कभी यह गोरों से,
    अपने अब हैं जुर्म करते,क्या. कहें हम औरों को.

    हर एक जज्बात और हालात को आपने बहुत खूबसूरती से प्रस्तुत किया है ...आपका आभार मेरे ब्लॉग पर आकर प्रोत्साहित करने के लिए ...आशा है आपका प्रोत्साहन यूँ ही मिलता रहेगा

    ReplyDelete
  2. नारी पूजी जाती थी जहां देवियों के वेश में
    भ्रूण हत्या होती अब है इस निराले देश में.

    ....आज की व्यवस्था पर बहुत सटीक टिप्पणी...सार्थक सोच लिये बहुत प्रेरक प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  3. satik vyangya hai .......sundar|

    ReplyDelete
  4. बेटे सुधरो, जुर्म छोडो देश अब यह बोलता
    हर बुरे कामों का होता अंत दुखकार जान लो.
    छोड़ पापों को को अभी तुम, सभ्य जीवन में पधारो ,
    आगमन कर लो अभी तुम देश बाहें खोलता.


    बहुत ओजजस्वी लिखा है आपने ! गहरे भाव और अभिव्यक्ति के साथ ज़बरदस्त प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  5. अच्छी कविता। आज भी दूध की नदियां बह सकती हैं, शर्त यही है कि हमारे नेता इस नदी पर बांध न बना ले॥

    ReplyDelete
  6. ओज़स्वी लिखा है ... आज देश को जरूरत है ऐसे जज्बे की ... खड़े हो कर कुछ करने की ..

    ReplyDelete
  7. bahut badhiya likhaa hai aapne. desh ke haalaat ka sateek chitran, shubhkaamnaayen.

    ReplyDelete
  8. अच्छी लगी ये व्यंग्यात्मक रचना !

    ReplyDelete
  9. आपने देश की ज्वलंत समस्याओं को अपनी इस रचना का मूल विषय बनाया है। इतने सारे विषय को समेट कर चलना आसान नहीं था। पर आपने इसे संभव कर दिखाया है।

    ReplyDelete
  10. सटीक प्रस्तुति.....उम्दा व्यंगात्मक रचना

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर रचना.
    देश को आज आप जैसी युवा सोच की जरूरत है.

    ReplyDelete
  12. बेटे सुधरो, जुर्म छोडो देश अब यह बोलता
    हर बुरे कामों का होता अंत दुखकार जान लो.
    छोड़ पापों को को अभी तुम, सभ्य जीवन में पधारो ,
    आगमन कर लो अभी तुम देश बाहें खोलता.

    sunder rachna, uchit margdarshan liye, achha laga aapko padhna.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  13. नारी पूजी जाती थी जहां देवियों के वेश में
    भ्रूण हत्या होती अब है इस निराले देश में. ....

    Punch lines...

    .

    ReplyDelete
  14. बहुत सार्थक सोच ...एवं बेहतरीन व्यंगात्मक प्रस्तुति ....

    ReplyDelete
  15. ओजपूर्ण ,प्रभावी रचना

    ReplyDelete
  16. हकीकत ब्यान करती यह पोस्ट मन को भा गयी .....

    ReplyDelete
  17. सार्थक सोच ,बहुत सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  18. छोड़ पापों को को अभी तुम, सभ्य जीवन में पधारो ,
    आगमन कर लो अभी तुम देश बाहें खोलता
    bahot achchi baat ki hai.....

    ReplyDelete
  19. भाव पूर्ण आव्हान ..सुन्दर यथार्थ पार्क प्रेरक प्रस्तुति ..
    नवरात्रि कि हार्दिक शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  20. प्रिय अंकित पाण्डेय जी बहुत सुन्दर रचना ..हर पंक्ति सटीक और प्यारी ...कब ये सुधरेगा देश हमारा एक बड़ा प्रश्न ....
    बधाई आप को लाजबाब ...
    धन्यवाद और आभार ..अपना स्नेह और समर्थन दीजियेगा
    भ्रमर ५
    घपले-घोटाले निकलते है यहाँ हर क्षेत्र में
    सैन्य क्या, संचार क्या है लिप्त इसमें खेल भी.
    त्रस्त रहता, जुर्म सहता, था कभी यह गोरों से,
    अपने अब हैं जुर्म करते,क्या. कहें हम औरों को.

    ReplyDelete
  21. आप सब को विजयदशमी पर्व शुभ एवं मंगलमय हो।

    ReplyDelete
  22. नारी पूजी जाती थी जहां देवियों के वेश में
    भ्रूण हत्या होती अब है इस निराले देश में.
    विविध बोली, विविध भाषा, विविध रहना, विविध खाना,
    विविधता में एकता की हैं मिसालें देश में.

    bahut kuch ho sakta hai is desh me abhi bhi...
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete